Saturday, April 20, 2024
Google search engine
HomeMaharashtraमराठा आरक्षण विधेयक सर्वसम्मति से पास, शिक्षा और नौकरियों में मिलेगा 10...

मराठा आरक्षण विधेयक सर्वसम्मति से पास, शिक्षा और नौकरियों में मिलेगा 10 फीसदी आरक्षण, फिर भी भूख हड़ताल नहीं खत्म करेंगे मनोज जरांगे

मुंबई। महाराष्ट्र विधानसभा ने मंगलवार को मराठा आरक्षण विधेयक को मंजूरी दे दी, जिसके तहत समुदाय को शिक्षा और सरकारी नौकरियों में 10 प्रतिशत आरक्षण मिलेगा। यह मांग काफी लंबे समय से थी। इसके बाद लोगों में खुशी भी है। मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे की बिल को सर्वसम्मति से और पूर्ण बहुमत से पारित करने की अपील के बाद, विपक्षी नेताओं के साथ, सत्ता पक्ष के एकमात्र सदस्य मंत्री छगन भुजबल बिल पर आपत्ति जताने के लिए खड़े हुए। हालांकि, उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस ने विधेयक को सर्वसम्मति से पारित करने की अपील की, जिस पर विपक्षी नेता विजय वडेट्टीवार सहमत हो गए। इसलिए, विधानसभा के विशेष सत्र में मराठा आरक्षण विधेयक सर्वसम्मति से पारित किया गया। महाराष्ट्र विधानसभा ने सरकारी नौकरियों और शिक्षा में मराठों के लिए 10 प्रतिशत आरक्षण प्रदान करने वाला विधेयक सर्वसम्मति से पारित किया। सरकार को आवश्यक आंकड़ों के साथ मराठा समुदाय के लिए आरक्षण सुनिश्चित करने वाला कानून बनाने में मदद मिलेगी। इस व्यापक कवायद में लगभग 2.5 करोड़ परिवारों को शामिल किया गया। सर्वेक्षण 23 जनवरी को पूरे महाराष्ट्र में शुरू हुआ जिसमें राज्य सरकार के 3.5 लाख से चार लाख कर्मचारियों ने हिस्सा लिया। यह सर्वेक्षण 2.5 करोड़ परिवारों पर किया गया। यह रेखांकित किया गया कि मराठा समुदाय राज्य की आबादी का 28 प्रतिशत है। इसके अतिरिक्त, यह नोट करता है कि मराठा परिवारों का एक महत्वपूर्ण हिस्सा गरीबी रेखा से नीचे आता है, जिसमें 21.22 प्रतिशत के पास पीले राशन कार्ड हैं, जो राज्य के औसत 17.4 प्रतिशत से अधिक है। अब ऐसे लोगों को इससे फायदा होगा।
मनोज जारांगे पाटिल अब भी नाराज
मराठा आरक्षण कार्यकर्ता मनोज जारांगे पाटिल अब भी नाराज है। उन्होंने कहा कि सरकार का यह फैसला चुनाव और वोटों को ध्यान में रखकर लिया गया है। यह मराठा समुदाय के साथ विश्वासघात है। मराठा समुदाय आप पर भरोसा नहीं करेगा। जारांगे पाटिल ने कहा कि हमें अपनी मूल मांगों से ही लाभ होगा। ‘सेज-सोयारे’ पर कानून बनाओ। ये आरक्षण नहीं टिकेगा। सरकार अब झूठ बोलेगी कि आरक्षण दे दिया है। उन्होंने कहा कि आंदोलन के अगले दौर की घोषणा कल की जायेगी। इससे पहले मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने मराठा आरक्षण कार्यकर्ता मनोज जरांगे से अपनी अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल खत्म करने का आग्रह किया था। मनोज जरांगे लगातार अपनी मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं।
मराठा आरक्षण को लेकर कानूनी लड़ाई
मराठा समुदाय के लिए आरक्षण सुरक्षित करने का कदम कानूनी लड़ाई के मद्देनजर उठाया गया है। 2021 में, भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने महाराष्ट्र में कॉलेज प्रवेश और रोजगार में मराठों के लिए आरक्षण को अमान्य कर दिया। अदालत ने समग्र आरक्षण पर 50 प्रतिशत की सीमा के उल्लंघन को उचित ठहराने के लिए असाधारण परिस्थितियों की कमी का हवाला दिया। समीक्षा याचिका खारिज होने के बावजूद, राज्य सरकार ने मराठा आरक्षण को बरकरार रखने के लिए सुधारात्मक याचिका दायर की। नौकरियों और शिक्षा में सामाजिक और शैक्षणिक रूप से पिछड़े वर्ग के तहत 10 प्रतिशत मराठा आरक्षण का कानून पारित होने के साथ, महाराष्ट्र में कुल आरक्षण 62 प्रतिशत हो गया।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments