Friday, February 3, 2023
Google search engine
HomeIndiaMaharashtra: उद्धव ठाकरे ने प्रकाश अंबेडकर की पार्टी VBA से किया गठबंधन,...

Maharashtra: उद्धव ठाकरे ने प्रकाश अंबेडकर की पार्टी VBA से किया गठबंधन, कहा, ‘लोकतंत्र को जीवित रखने…’

शिवसेना (ठाकरे समूह) पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे और वंचित बहुजन आघाडी प्रमुख प्रकाश अंबेडकर ने दोनों दलों के बीच गठबंधन की घोषणा की है. इस मौके पर उद्धव ठाकरे ने दोनों पार्टियों के साथ आने की वजह बताई. उद्धव ठाकरे और प्रकाश अंबेडकर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कई जानकारियां दी. उन्होंने आगे के राजनीतिक पाठ्यक्रम पर भी टिप्पणी की. उद्धव ठाकरे ने कहा, ‘तानाशाही जनता को अनचाही बहस में रखने और भ्रम में रखने से ही आती है. हम लोकतंत्र को जीवित रखने और संविधान की पवित्रता को बनाए रखने के लिए एक साथ आ रहे हैं ताकि देश उसी वैचारिक प्रदूषण से मुक्त हो सके. उद्धव ठाकरे और प्रकाश अंबेडकर के गठबंधन को लेकर पूछे गये सवाल पर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने कहा की “मैं बधाई देता हूं”

उद्धव ठाकरे का पीएम मोदी पर निशाना
उद्धव ठाकरे ने पीएम मोदी पर भी जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा, ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुंबई आए. बैठक में कौन आया, कहां से लाया गया, क्या बताया गया, इस बारे में हमने सब कुछ देखा और पढ़ा है. जब चुनाव आते हैं, तो गरीबों का बहिष्कार किया जाता है इसे रोकने की जरूरत है. इसलिए हम साथ आए हैं. प्रकाश अंबेडकर ने भी पीएम मोदी पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा, चुनाव में बदले की राजनीति हो रही है. एक दिन पीएम मोदी का नेतृत्व भी खत्म हो जाएगा. प्रकाश अंबेडकर ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि ईडी के जरिए राजनीतिक नेतृत्व को खत्म करने का काम चल रहा है.

उद्धव ठाकरे में आगे कहा, अंबेडकर और ठाकरे नामों का एक इतिहास है. मेरे दादा और प्रकाश अंबेडकर के दादा मिलनसार थे. दोनों ने समाज की कुरीतियों के खिलाफ आवाज उठाई. इस बारे में हमें कुछ और कहने की जरूरत नहीं है. उद्धव ठाकरे ने जवाब दिया कि हम राजनीति की कुरीतियों को तोड़ने के लिए साथ आए हैं. मेरे और प्रकाश अंबेडकर के दादा ने एक दूसरे के साथ काम किया. देश के लोकतंत्र का गला घोंटा जा रहा है. देश हिटलरशाही की तरफ जा रहा है. इसे रोकने के लिए शिवसेना और वंचित बहुजन अघाडी ने साथ आने का फैसला किया है.

बाबासाहब अंबेडकर ने संविधान सभा के आखिरी भाषण में कहा था कि देश में सामान्य व्यक्तियों की समस्या को छोड़कर दूसरे विषय की और ध्यान दिया तो लोकतंत्र पर खतरा हो सकता है. बालासाहब ठाकरे प्रखर देश भक्त थे. प्रकाश अम्बेडकर ने कहा, आज हमने एक साथ आने का फैसला किया है. शरद पवार और मेरा पुराना झगड़ा है लेकिन मुझे यकीन है की वे हमारे साथ आएंगे.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments