Thursday, April 18, 2024
Google search engine
HomeMaharashtraखार पूर्व में कला दर्पण ने ममतामयी श्री राधे मां का किया...

खार पूर्व में कला दर्पण ने ममतामयी श्री राधे मां का किया भव्य स्वागत

मानवता से बड़ा कोई धर्म नहीं- ममतामयी श्री राधे मां

200 लोगों को आटे के 5 किलो का पैकेट का वितरण

मुंबई। साहित्यिक, सामाजिक, सांस्कृतिक व शैक्षणिक संस्था कला दर्पण फाउंडेशन ट्रस्ट विगत १० वर्षों से देश की प्रगति, जन कल्याण की भावना से कार्य कर रही है। इसी कड़ी में गुरुवार यानी २३ फरवरी २०२३ को खार पूर्व स्थित गुरुद्वारा सभागृह में संस्था की तरफ से २०० जरूरत मंद लोगों को ५ किलो आटे की पैकेट का वितरण ममतामयी श्री राधे मां की मुख्य उपस्थित में किया गया। ममतामयी श्री राधे मां के आगमन पर कला दर्पण फाउंडेशन ट्रस्ट की टीम ने मातारानी का जयकारा लगाते हुए भव्य स्वागत किया गया। कार्यक्रम की शुरुआत ममतामयी श्री राधे मां ने दीप प्रज्वलित कर किया। कार्यक्रम में आये लोगों को भाजपा के वरिष्ठ नेता सुहास आडिवेकर, रूपेश मालुसरे, महेश पारकर, संभाजी ब्रिगेड के मुंबई सचिव गणपत गांवकर, प्रकाश वीर, वरिष्ठ कामगार नेता अभिजीत राणे के हाथों आटे के पैकेट का वितरण किया गया। ममतामयी श्री राधे मां ने भक्तों में अपनी ममता बांटी और कहा मानवता से बड़ा कोई धर्म नहीं होता। उक्त मौके पर ममतामयी श्री राधे मां ने भक्तो से कहा सबसे पहले अपने माता-पिता और परिवार की सेवा करो, वहीं सहीं समाज सेवा मानी जाएगी। उक्त मौके पर श्री राधे मां ने संस्था को २१ हजार रुपये का चेक भी दिया। श्री अभिजीत राणे जी का सम्मान संस्था अध्यक्ष सुनील कुमार तिवारी, दिनेश केसरी व महिला अध्यक्ष जसबीर कौर भामरा के हाथों किया गया। इसके अलावा कार्यक्रम में आये अतिथियों का सत्कार संस्था पदाधिकारियों द्वारा किया गया। उक्त कार्यक्रम संस्था अध्यक्ष सुनील कुमार तिवारी के मार्गदर्शन में संस्था के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष दिनेश केसरी, महिला अध्यक्ष जसबीर कौर भामरा, कोषाध्यक्ष पूनम दुबे के नियोजन एवं सतीश तिवारी, अवधेश प्रजापति, बाबा भाई, ललित तिवारी, रोहित तिवारी, आदर्श केसरी, कविता फुलपगारे की देखरेख व राष्ट्रीय कवि श्री विनय शर्मा के कुशल संचालन में सम्पन्न हुआ।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments