Wednesday, July 24, 2024
Google search engine
HomeIndia'देश में संविधान और लोकतंत्र खतरे में'…आदित्य ठाकरे ने किया राहुल गांधी...

‘देश में संविधान और लोकतंत्र खतरे में’…आदित्य ठाकरे ने किया राहुल गांधी के बयान का समर्थन

मुंबई: महाराष्ट्र के पूर्व कैबिनेट मंत्री आदित्य ठाकरे ने शुक्रवार को मीडिया से मुलाकात के दौरान अहम बात कही। आदित्य ठाकरे ने राहुल गांधी के बयान का समर्थन करते हुए कहा कि फिलहाल देश में संविधान और लोकतंत्र दोनों खतरे में हैं। राहुल गांधी के मुद्दे पर पूछे गए सवाल के जवाब में आदित्य ने यह बात कही है। आदित्य ने कहा कि मैं नहीं जानता कि राहुल गांधी का फोन टैप हुआ था कि लेकिन यह सही है कि जो भी सच बोलता है। उसकी आवाज को एजेंसियों का इस्तेमाल करके दबा दिया जाता है। दरअसल कैंब्रिज यूनिवर्सिटी में बोलते हुए राहुल गांधी ने कहा है कि कई सारे राजनेताओं के फ़ोन में पेगासस था, मेरे फ़ोन में भी था। मुझे खुफिया एजेंसी के अधिकारियों ने बताया कि मेरे फोन में पेगासस है। इसलिए सावधानी से बात करिए आप जो भी बोलेंगे वह हम रिकॉर्ड कर रहे हैं।

राहुल गांधी का दावा क्या है?
कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने दावा किया है कि उनके और कई अन्य विपक्षी नेताओं के फोन में पेगासस स्पाइवेयर था और गुप्तचर अधिकारियों ने खुद उन्हें फोन करके बताया था कि बातचीत करते हुए वह सावधान रहें क्योंकि उनकी बातों को रिकॉर्ड किया जा रहा है। राहुल गांधी ने मशहूर कैंब्रिज विश्वविद्यालय में दिए व्याख्यान में यह आरोप भी लगाया कि भारत में लोकतंत्र पर हमला हो रहा है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत के लोकतांत्रिक ढांचे को नष्ट कर रहे हैं। ‘इंडियन ओवरसीज कांग्रेस’ के प्रमुख सैम पित्रोदा ने राहुल गांधी के व्याख्यान का वीडियो अपने यूट्यूब चैनल पर जारी किया है। राहुल गांधी ने इस व्याख्यान में अपनी ‘भारत जोड़ो यात्रा’ और चीन के संदर्भ में विस्तार से बातचीत की है।

उन्होंने भारत में विपक्षी नेताओं की ‘निगरानी किए जाने’ का उल्लेख करते हुए दावा किया, ‘मेरे फोन में पेगासस था, कई और नेताओं के फोन में भी पेगासस था। गुप्तचर अधिकारियों ने मुझे फोन करके बताया कि फोन पर बातचीत करते हुए कृपया सावधान रहें क्योंकि हम (आपकी बातों को) रिकॉर्ड कर रहे हैं।’

मीडिया और कई अन्य संस्थाओं को कब्जे में कर लिया गया
राहुल गांधी ने ‘भारत जोड़ो यात्रा’ निकालने के कारण के संदर्भ में कहा ‘जब लोकतांत्रिक ढांचे पर हमला हो रहा है तो विपक्ष के तौर पर हमारे लिए संवाद करना बहुत मुश्किल हो जाता है। इसलिए हमने भारत की संस्कृति और इतिहास की तरफ मुड़ने का फैसला किया। आप ने दांडी यात्रा के बारे में सुना होगा जो महात्मा गांधी ने अंग्रेजों के खिलाफ निकाली थी।’उन्होंने कहा कि इस ‘भारत जोड़ो यात्रा’ का मकसद सिर्फ दूरी तय करना नहीं था बल्कि लोगों को सुनना था। राहुल गांधी ने यह दावा भी किया कि भारत में मीडिया और कई अन्य संस्थाओं को कब्जे में कर लिया गया है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments